Home » ज्वालामुखी का विश्व वितरण – Jwalamukhi ka vitaran (World Distribution of Volcano)

ज्वालामुखी का विश्व वितरण – Jwalamukhi ka vitaran (World Distribution of Volcano)

ज्वालामुखी का विश्व वितरण World Distribution of Volcanoes


ज्वालामुखी का विश्व वितरण 
World Distribution of Volcanoes


 


Jwalamukhi Kise kahate hain – ज्वालामुखी किसे कहते हैं ? (What is a volcano?) – Hindlogy

Jwalamukhi ka vitaran

ज्वालामुखी का विश्व वितरण : Jwalamukhi ka vitaran
World Distribution of Volcanoes

प्लेट विवर्तनिकी सिद्धांत से यह स्पष्ट होता है,
कि पूरे विश्व में अधिकांश तौर पर सक्रिय ज्वालामुखी भूपृष्ठ के भीतर स्थित प्लेट की सीमाओं के साथ संबंधित हैं।
लगभग 15 % ज्वालामुखी (Jwalamukhi) रचनात्मक प्रकार की प्लेट के किनारों से निर्मित है जबकि तथा 80 % विनाशकारी प्लेटों के किनारो से निमित हैं ।

(i) परिप्रशांत महासागरीय पेटी
Pacific Ocean Box

विनाशकारी प्लेट के किनारों में विस्तृत ,
परिप्रशांत महासागरीय पेटी में विश्व के करीब दो तिहाई ज्वालामुखी पाये जाते हैं।
इन ज्वालामुखी का विस्तार ,
अंटार्कटिका महाद्वीप के माउंटइरेबस से लेकर प्रशांत के क्षेत्रों के क्षेत्रों तक किनारों व चारों ओर विस्तृत हैं। इसे ‘प्रशांत महासागर का अग्निवृत’ (Fire ring of the pacific ocean) उपनाम से माना जाता है

परिप्रशांत महासागरीय पेटी में कुल 22 प्रमुख ज्वालामुखी ( Jwalamukhi ) पर्वत समूह पाये जाते हैं। इनमे – कोटापैक्सी, फ्यूजीयामा, माउंट ताल, मांउट मेशन, शस्ता, रेनिडियर, हुड, पिनाटोबू, चिम्बोरोजो आदि प्रमुख ज्वालामुखी शामिल हैं।

परिप्रशांत महासागरीय पेटी Pacific Ocean Box

परिप्रशांत महासागरीय पेटी
Pacific Ocean Box

(ii) मध्य महाद्वीपीय पेटी
Mid-continental belt

मध्य महाद्वीपीय पेटी के अधिकांश ज्वालामुखी विनाशकारी प्लेट किनारों के सहारे ही पाये जाते हैं।
इस पेटी का विस्तार उत्तर में आइसलैंड से प्रारंभ होकर भू-मध्यसागर, अफ्रीका, हिमालय, दक्षिण-पूर्वी एशियाई देशों तक है।
भू-मध्यसागर में स्थित स्ट्राम्बोली (Stromboli), इसके अलावा विसुवियस ( Vesuvius) , एटना (Etna), एजियन सागर ( Aegean Sea )के ज्वालामुखी, देवबंद एवं कोहेन्सुल्तान (Deoband and Cohensultan) (ईरान, अलवुर्थ), अरेरात (Arerat)(अर्मोनिया), अफ्रिका के एटगना  (Atagna of Africa), मेरू (Meru), किलीमंजारो, रांगवी, विएंगा आदि ज्वालामुखी इस पेटी के अंतर्गत आते हैं।

(iii) मध्य अटलांटिक पेटी
Mid-Atlantic belt

मध्य अटलांटिक पेटी का विस्तार रचनात्मक प्लेटो में पाया जाता है ।
आइसलैंड मध्य अटलांटिक पेटी का सर्वाधिक सक्रिय क्षेत्र है,
यहाँ पर लौकी हेकला ( Loki Hekala )  एवं हेल्गाफेल ज्वालामुखी स्थित हैं।
लेजर एण्टलीज (Laser Antilles) , एओर द्वीप ( Aoer Island  ) तथा सेंट हेलना ( St. Helena ) आदि अन्य प्रमुख ज्वालामुखी क्षेत्र हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.