Home » SEAHORSE (सी – हॉर्स ) – समुद्री घोड़ा Ek Anokha smudri jeev : Hindlogy

SEAHORSE (सी – हॉर्स ) – समुद्री घोड़ा Ek Anokha smudri jeev : Hindlogy

SEA HORSE ( समुद्री घोड़ा )

SEA HORSE ( समुद्री घोड़ा )



SEA HORSE समुद्री घोडा

दोस्तो,अक्सर आपने अपने आस – पास घोड़े देखे होंगे और उनकी रोमांचकारी सवारी भी की होगी,
परंतु क्या आप जानते है की पानी में भी घोड़े पाए जाते है :
जी हां सुनकर थोड़ी हैरानी हुई होगी पर ये बात 100% सच है,
समुंद्र के पानी में पाए जाने वाले इस घोड़े को समुद्री घोड़ा यानी Seahorse कहा जाता है।

सामान्य रूप से ये एक मछली है जो गलफड़ों से सांस लेती है,
परन्तु इसकी बनावट खासतौर पर चेहरा घोड़े से मिलता जुलता है,
इसलिए इसको समुंद्री घोड़ा कहा जाता है,

तो आइए दोस्तों जीव-जंतु की आज की पोस्ट में हम आपको समुंद्री घोड़े से जुड़ी रोचक जानकारी देने जा रहे है,


SEAHORSE (सी – हॉर्स ) के बारे में जानकारी 
SEAHORSE ke bare mein jankari :-

1. इस मछली का सिर जमीन में पाए जाने वाले घोड़े से बहुत मिलता जुलता है,
जिस कारण इसे समुंद्री घोड़ा कहा जाता है।

2. समुंद्री घोड़े एक मछली है जो हिप्पोकैम्पस प्राजाति से सम्बन्धित है।

हिप्पोकैम्पस शब्द का अर्थ :-यह एक ग्रीक शब्द है, जिसमें हिप्पो का अर्थ हैं घोड़ा और कोम्पस का अर्थ हैं एक विचित्र समुंद्री जीव, अर्थात् हिप्पोकैम्पस का अर्थ है घोड़े जैसा दिखने वाला समुंद्री जीव।

3. मुख्यतः यह यूरोप, उत्तरी और दक्षिणी अमेरिका तथा अटलांटिक में पाया जाता है।

4. गलफड़ों से सांस लेने के कारण समुद्री घोड़े को मछली की श्रेणी में रखा जाता हैं।

SEAHORSE की शारीरिक बनावट :-

5. इसके पूरे शरीर में केवल एक ही हड्डी होती है रीढ़ की हड्डी,
इसी के साथ इसके पास एक पूँछ भी होती है जो सांप की पूंछ के समान होती है।

अगर बात करे इसकी पूंछ की तो बताते हुए चलते है की इसकी तैरने की गति बहुत धीमी होती है,
अतः ये किसी भी वस्तु को अपनी पूँछ से ही पकड़ता है।

6. अधिकतर समुद्री घोड़ों का रंग पीला, लाल और सफेद होता है।

7. विश्वभर में इनकी लगभग 54 प्रजातियां पायी जाती है।

SEAHORSE का प्रजनन
breeding of seahorse :-

8. समुंद्री घोड़ा हमेशा जोड़ा बनाकर रहना पसंद करता है।

मादा समुद्री घोड़ा अंडे देने लिए लिए नर समुंद्री घोड़े के पेट में लगी थैली का इस्तेमाल करती है और नर के पेट में लगी थैली में ही अंडे दे देती हैं,
नर के पेट में लगी ये थैली कंगारू की तरह थैली होती है।

45 दिन के बाद इन अंडों से बच्चे निकलते हैं, इन बच्चों को नर समुंद्री घोड़ा थैली खोलकर समुन्द्र में खुला छोड़ देता है।
समुद्री घोड़े के बच्चों को फ्राई नाम से जाना जाता है।

10. ये विचित्र जीव गर्मियों के मौसम में ही दिखाई देता है। सर्दियों में ये कहा जाता हैं, ये जानकारी रहस्यमय हैं।

11. मनुष्य के साथ साथ अन्य जानवर भी इसे खाना पसंद करते समुंद्र के भीतर भी इसे बहुत कम जीव खाते हैं, जिस कारण इसके शत्रु भी कम होते हैं।

12. इस अदभुत जीव के ना तो दांत होते है और ना ही पेट, परंतु ये एक ऐसी मछली है जिसकी गर्दन होती है।

13. समुंद्री घोड़े को दोनों आंखे स्वतंत्र होती हैं, इसकी दोनों आंखे अलग अलग दिशाओं में भी देख सकती हैं।

नर समुद्री घोड़े को थैली में एक बार में 50 अंडे आ जाते हैं और ये एक साल में तीन बार इन अंडों को अपनी थैली में रख सकता है।

मादा से मिलन के  5 सप्ताह बाद अंडे इसकी थैली में तैयार हो जाते हैं।
इसकी शरीर चिकना और कठोर होता हैं,
ये समुंद्र का बहुत धीमा प्राणी हैं, अधिकतर समुंद्री घोड़ा पानी की घास में चिपका रहता हैं।

 

ब्लैक बॉक्स (Black Box) / Black Box क्या होता है ?

Leave a Reply

Your email address will not be published.